वांटेड स्कूल प्रबंधक को एसटीएफ ने दबोचा, शराब तस्करी में संलिप्तता का था आरोप

    109
    0

    गाजीपुर। आखिर वांटेड स्कूल संचालक प्रद्युमन राम उर्फ ज्ञान गुंजन एसटीएफ के हत्थे चढ़ ही गया। यह कामयाबी नोनहरा थाना क्षेत्र में शुक्रवार को मिली। वह उसी क्षेत्र के रोहिलीपुर का रहने वाला है। उस पर पूरे 25 हजार रुपये का इनाम घोषित था।

    मालूम हो कि एसटीएफ ने दस मार्च की रात नोनहरा थाना क्षेत्र के रोहिली स्थित एमजेआरपी पब्लिक स्कूल में चल रही अंग्रेजी शराब की फैक्ट्री का भंडाफोड़ करते हुए चार को मौके से गिरफ्तार किया। मौके पर कुल 11174 लीटर शराब बरामद हुई थी। उसकी बाजार कीमत करीब 50 लाख रुपये आंकी गई थी। उस कार्रवाई में स्कूल प्रबंधक प्रद्युमन राम उर्फ ज्ञान गुंजन हाथ नहीं लगा था। एसटीएफ को बड़े पैमाने पर शराब तस्करी का इनपुट मिला था।

    उसके बाद एसटीएफ की टीम गाजीपुर पहुंची थी और नोनहरा इलाके में शराब की कंटेनर पकड़ी थी। उस दौरान पकड़े गए लोगों की निशानदेही पर टीम नोनहरा पुलिस और आबकारी विभाग के लोगों को लेकर रोहिली स्थित एमजेआरपी स्कूल में छापा मारी थी। मौके पर पकड़े गए लोगों ने बताया था कि वह सभी कुख्यात शराब तस्कर मऊ सदर कोतवाली के ब्रह्मस्थान निवासी धर्मेंद्र मौर्य के लिए काम करते थे। धर्मेंद्र मौर्य के इस कारोबार में एमजेआरपी पब्लिक स्कूल प्रबंधक प्रद्युम्न राम भी साझीदार था। उसके स्कूल को इसलिए शराब के अवैध उत्पादन, भंडारण के लिए चुना गया था कि किसी को शक न हो सके। वहां स्प्रिट में पानी, कलर, यूरिया व अन्य केमिकल मिलाकर शराब तैयार की जाती थी। फिर उसे बोतलों में भरकर सिलिंग मशीन से उनके ढक्कन को सील कर दिया जाता था। मांग के अनुरूप अंग्रेजी व देशी ब्रांड का रैपर चस्पा दिए जाते थे।

    यह भी पढ़ें–सांसद अतुल!…और अब क्या

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

    Previous articleओमप्रकाश राजभर की राजनीतिक हैसियत की थाह लगा दिया पंचायत चुनाव: जितेंद्र नाथ पांडेय
    Next articleपुलिस हेड कांस्टेबल ने पत्नी और संतानों पर जान लेवा हमला कर की खुदकुशी