ओमप्रकाश राजभर की राजनीतिक हैसियत की थाह लगा दिया पंचायत चुनाव: जितेंद्र नाथ पांडेय

    33
    0

    गाजीपुर। भाजपा के वरिष्ठ नेता जितेंद्र नाथ पांडेय का कहना है कि पंचायत चुनाव में सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर की राजनीतिक हैसियत की थाह लग चुकी है। वह अपने जहूराबाद विधानसभा क्षेत्र में अपने पार्टी उम्मीदवारों के चुनाव अभियान में खूब दौड़-भाग किए लेकिन जिला पंचायत  की एक भी सीट उन्हें नहीं मिली।

    भाजपा नेता ने कहा कि ओमप्रकाश राजभर अपनी बिरादरी के भोले-भाले लोगों के जज्बात उभार कर अपनी राजनीतिक गोटी सेकने के सिवाय कुछ नहीं करते लेकिन अब राजभर समाज के लोग उनकी इस कुत्सित राजनीति को समझ चुके हैं। पंचायत चुनाव का परिणाम इस बात की गवाही भी करता है। श्री पांडेय ने कहा कि 2017 के विधानसभा चुनाव में राजभर समाज इस लिए सुभासपा के साथ गया कि भाजपा उसके साथ खड़ी थी लेकिन ओमप्रकाश राजभर को वहम हो गया कि राजभर समाज उनके साथ हो गया है।

    एक सवाल पर श्री पांडेय ने कहा कि पंचायत चुनाव में भाजपा को अपेक्षित परिणाम न मिलने का एक मात्र कारण कोरोना संक्रमण रहा। ऐन चुनाव अभियान के वक्त पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं सहित संगठन के पदाधिकारी संक्रमित हो गए थे। लिहाजा पार्टी का चुनाव अभियान लगभग पूरी तरह प्रभावित हुआ। पार्टी का कॉडर भी डरा सहमा रहा। टिकट के बंटवारे में भी कोई बेईमानी नहीं हुई थी। समर्पित, कर्मठ पार्टीजनों को ही चुनाव लड़ने का मौका दिया गया था।

    एक अन्य सवाल पर पार्टी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि कोरोना के इस संक्रमण काल में सरकारी सिस्टम के एक्सपोज होने की बात बेमानी कही जाएगी। हकीकत यही है कि विश्वव्यापी इस महामारी के संक्रमण को अस्पताल, ऑक्सीजन से नहीं रोका जा सकता। इसके लिए लॉकडाउन प्रभावी उपाय है। भाजपा सरकार कोरोना के पहले वेव और अब इस दूसरे वेव में भी यही उपाय की है। पहली बार और इस बार भी इसके अपेक्षित परिणाम मिलने लगे हैं। फिर इसमें जनसहयोग की भी भूमिका अहम है। आमजन को नाहक घर से बाहर निकलने से खुद को रोकना होगा। मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करना होगा। बार-बार साबुन अथवा सेनेटाइजर से हाथ साफ करने की आदत डालनी होगी।

    यह भी पढ़ें—वाकई! अंसारी बंधुओं के यहां शरणम् गच्छामि  

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

     

    Previous articleकुख्यात पूर्व प्रधान सहित 13 पर दो लाख का जुर्माना
    Next articleवांटेड स्कूल प्रबंधक को एसटीएफ ने दबोचा, शराब तस्करी में संलिप्तता का था आरोप