गोली से जख्मी नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान के पुत्र की मौत, मामला सादात थाना क्षेत्र का

    34
    0

    गाजीपुर। सादात थाने के गौरा गांव में पंचायत चुनाव की रंजिश में मतदान की पूर्व रात 28 अप्रैल को गोली मारे जाने से घायल युवक महावीर राम (28) की सोमवार की रात बीएचयू ट्रामा सेंटर में मौत हो गई। यह सूचना मिलने के बाद ही एहतियातन गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। मृत महावीर की मां धनपति देवी गांव की प्रधान चुनी गई हैं। इस मामले में गांव के ही पूर्व प्रधान मनोज सिंह तथा उनके दो अज्ञात साथियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज हुई थी। घटना के बाद ही महावीर राम की बस्ती के लोगों ने धावा बोलकर मनोज सिंह के दरवाजे पर खड़ी स्कार्पियो, ट्रैक्टर फूंक दिया था। दर्ज मामले में हत्या की धारा जोड़ दी गई है।

    इस बार के चुनाव में गौरा का ग्राम प्रधान का पद अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षित रहा। धनपति देवी पत्नी नंदलाल पहलवान लड़ रही थीं। उनके विरोध में मनोज सिंह इंदू वनवासी को मैदान में उतारा था। ऐन मतदान की पूर्व रात मनोज सिंह अनुसूचित बस्ती में पहुंचा था। धनपति के लोग वोटरों को रुपये बांटने का आरोप लगाते उसके संग मारपीट करने लगे थे। उसी बीच मनोज ने धनपति के बेटे महावीर को गोली मार दी थी और भाग गया था। उसके बाद महावीर की बस्ती के लोग मनोज के दरवाजे पर चढ़ आए थे और वहां खड़े वाहनों को आग के हवाले कर दिए थे। उनके तेवर देख मनोज के परिवार के सदस्य पिछले दरवाजे से घर छोड़ कर हट गए थे। मामले की नाजुकता समझ आसपास के थानों की फोर्स पहुंच गई थी। खुद पुलिस कप्तान डॉ.ओमप्रकाश सिंह भी पहुंचे थे।

    उसके बाद 29 अप्रैल को कड़ी सुरक्षा के बीच गौरा ग्राम पंचायत में वोट पड़ा था और दो मई को वोटों की गिनती में मनोज सिंह समर्थित इंदू वनवासी को धनपति देवी हरा कर ग्राम प्रधान निर्विचत हुईं।

    धनपति के बेटे की मौत की सूचना के बाद सीओ सैदपुर भी गौरा गांव पहुंचे थे। मृत महावीर राम के शव का पोस्टमार्टम बीएचयू में होगा। लिहाजा अभी निश्चित नहीं है कि उसका दाह संस्कार कहां होगा। वैसे इसको लेकर सादात पुलिस अलर्ट है। पुलिस और पीएसी के जवान गांव में तैनात कर दिए गए हैं।

    एसओ सादात दिव्यप्रकाश सिंह ने बताया कि नामजद अभियुक्त पूर्व प्रधान मनोज सिंह को मंगलवार की सुबह मेहनाजपुर (आजमगढ़) मार्ग स्थित खिदिरगंज के पास धर दबोचा गया। उसके कब्जे से घटना में प्रयुक्त पिस्तौल और एक चार पहिया वाहन बरामद हुआ। मनोज सिंह शातिर अपराधी है और उसके विरुद्ध सादात के अलावा सैदपुर, नंदगंज थाना सहित मऊ में भी पहले से ही कुल 27 मामले दर्ज रहे है। वह 1500 रुपये का इनामी भी था।

    यह भी पढ़ें–भाजपा: ‘नेत्रियों’ को वोटरों ने नकारा!

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

     

    Previous articleप्रमुख हृदय रोग विशेषज्ञ आरबी राय की पत्नी को भी कोरोना ने मारा
    Next articleपूर्व विधायक किस्मतिया देवी पंचतत्व में विलीन