सौरम गांव में हाहाकार, दस दिन में 16 की मौत

    36
    0

    गाजीपुर। शहर से चलकर कोरोना अब गांवों में पहुंच कर तांडव शुरू कर दिया है। करंडा ब्लॉक की ग्राम पंचायत के सौरम गांव में दस दिन में 16 लोगो की कोरोना से मौत हुई है। इसके चलते वहां मरघट का सन्नाटा पसर गया है। लोग घरों से बाहर निकलना जोखिम मान रहे हैं।

    नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान सीमा जायसवाल की इस आशय की लिखित सूचना मिलने के बाद डीएम एमपी सिंह ने सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल टीम गांव में भेजी। टीम ने 70 लोगों का एंटिजन टेस्ट की। साथ ही ज्वर तथा सर्दी-जुकाम से पीड़ित लोगों को दवा भी वितरित की।

    ग्राम प्रधान प्रतिनिधि मनोज जायसवाल ने बताया कि 14 टोलों में पसरी उनकी ग्राम पंचायत की कुल आबादी करीब 15 हजार है और मरने वाले लगभग हर टोले के हैं। इनमें छह महिलाएं भी शामिल हैं। सबकी मौत का कारण भी लगभग एक जैसा ही रहा। पहले सर्दी-जुकाम फिर बुखार। उसके बाद सांस की परेशानी और तीन-चार दिन के अंदर दम का टूट जाना। इनमें कुछ ने झोला छाप डॉक्टरों तो दो-तीन नंदगंज स्थित सरकारी अस्पताल में जाकर दवा ली थी लेकिन किसी की कोरोना की जांच नहीं हुई थी। उन्होंने बताया कि डीएम को दी गई लिखित सूचना में सभी 16 मृतकों के नाम अंकित किए गए थे। उसके बाद गांव में आई स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल टीम एंटिजन टेस्ट की रिपोर्ट का खुलासा नहीं की और बता गई कि इसी तरह गांव के अन्य सभी की जांच होगी।

    उधर एसीएमओ उमेश कुमार ने माना कि कोरोना का दायरा बढ़कर गांवों तक पहुंच गया है। इसको लेकर उनका विभाग अलर्ट हो गया है। 64 मोबाइल टीमें गठित कर अब गांवों में कोरोना टेस्ट का काम शुरू हो गया है।

    यह भी पढ़ें—भाजपा: ‘नेत्रियों’ को वोटरों ने नकारा!

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

     

    Previous articleकोरोना पीड़ितों के लिए एंबुलेंस का किराया तय
    Next articleप्रमुख हृदय रोग विशेषज्ञ आरबी राय की पत्नी को भी कोरोना ने मारा