मनिहारी पंचम: डॉ. विजय की रणनीति काम आई, पत्नी वंदना ने जीत दर्ज कराई

    42
    0

    गाजीपुर। जिला पंचायत की मनिहारी पंचम सीट भी एक मायने में वीआईपी ही रही। इस सीट पर भाजपा की प्रतिष्ठा दाव पर लगी थी। पार्टी के किसान मोर्चा के प्रदेश मंत्री डॉ. विजय यादव की पत्नी डॉ. वंदना यादव मैदान में थीं।

    गैर पार्टियों ने वंदना यादव को घेरने की भरसक कोशिश की। यहां तक कि सपा अपने परंपरागत वोटर यदुवंशियों को वंदना की ओर जाने से रोकने के लिए बिरादरी के ही कैलाश नाथ यादव को टिकट दी थी। फिर इलाकाई दिग्गज और पूर्व ब्लॉक प्रमुख धर्मदेव यादव भी ताल ठोक दिए थे। वह दो बार जिला पंचायत सदस्य भी रह चुके हैं। उधर राजभर बाहुल्य इस सीट पर सुभासपा भी अपने परंपरागत राजभर वोटरों की वंदना के पक्ष में लामबंदी न होने देने के लिए सुदामा राजभर को मैदान में उतारी थी। बसपा अकलियत के वोट बैंक को भी हथियाने के लिए मुहम्मद सलीम को लड़ाई थी। यादव बिरादरी के एक और उम्मीदवार सभाजीत यादव भी डटे थे।

    इस लिहाज से देखा जाए तो कुल मिलाकर वंदना यादव के लिए मैदान सहज नहीं था लेकिन उनके पति डॉ. विजय यादव की चतुर और सधे अभियान ने जीत की शानदार इबारत लिख दी। डॉ. विजय यादव ने गैर भाजपा वोट बैंक में सेंधमारी के लिए प्रचार अभियान में भाजपा के झंडे पताके को बहुत आगे नहीं किया। साथ ही वंदना यादव को जिला पंचायत की भावी चेयरमैन के अंदाज में पेश भी किया। इस सब का इन्हें लाभ मिला और रही सही कसर सुभासपा के बागी आनंद शर्मा ने पूरी कर दी। वंदना यादव के आगे शेष सभी 24 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई।

    वंदना यादव को कुल छह हजार 552 वोट मिले। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी सुदामा राजभर को चार हजार 966 के अलावा मुहम्मद सलीम तीन हजार 186, आनंद शर्मा दो हजार 47, धर्मदेव यादव एक हजार 797, चंदा एक हजार 710, संतोष एक हजार 476, सभाजीत यादव एक हजार 360, भोली देवी बिंद एक हजार 139, कैलाश नाथ यादव 964, राजनाथ 483, जितेंद्र बहादुर राजभर 429, राम सरन राम 275, उषा राजभर 255, परशुराम गुप्त 245, संजय 220, कांता 210, कन्हैया 207, सुर्यनाथ राजभर 196, विजय 155, श्रवण 148, सुब्बा 110, धर्मेंद्र 72 और रीता के खाते में 54 वोट पड़े थे।

    इस सीट पर कुल वोटरों की संख्या 47 हजार 388 थी। इनमें 28 हजार 256 वोट पड़े थे। 677 अवैध हो गए थे।

    यह भी पढ़ें—चेयरमैन: ‘न गैर सपाई न धनवान’

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

     

    Previous articleचेयरमैन न गैर और न धनवान होगा, अपनों के बीच का होगा: रामधारी
    Next articleसपा प्रत्याशी के पति ने ही डुबा दी लुटिया और जीत में पलट गई भाजपा की हारी बाजी