चेयरमैन न गैर और न धनवान होगा, अपनों के बीच का होगा: रामधारी

    35
    0

    गाजीपुर। जिला पंचायत के चेयरमैन की कुर्सी पर फिर समाजवादी पार्टी ही काबिज होगी और किसी धनवान की जगह चेयरमैन का चेहरा  कार्यकर्ताओं के बीच के ही परिवार की कोई महिला का होगी।

    यह दावा समाजवादी पार्टी के  जिलाध्यक्ष रामधारी यादव का है। उनका कहना है कि जिला पंचायत की 53 सीटों पर पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार थे जबकि शेष 14 सीटें आम सहमति न बनने के कारण कार्यकर्ताओं को फ्री फाइट के लिए छोड़ दी गई थी। इन सीटों में भी दस ऐसी सीटें हैं जहां पार्टी से जुड़े लोगों की ही जीत दर्ज हुई है जबकि अधिकृत उम्मीदवारों में 25 ने बाजी मारी है। इस हिसाब से समाजवादी पार्टी एक बार फिर जिला पंचायत में कुल 35 निर्वाचित सदस्यों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई है।

    उधर भाजपा सभी 67 सीटों पर अपना उम्मीदवार उतारी थी। पार्टी के जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह की मानी जाए तो उनमें छह ने जीत हासिल की है। चेयरमैन के चुनाव के सवाल पर भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि निश्चित रूप से पार्टी अपना उम्मीदवार देगी। यह उम्मीदवार कौन होगा। इसका निर्णय ऊपर का नेतृत्व करेगा।

    इसी तरह बसपा भी सभी सीटों पर उम्मीदवार दी थी। पार्टी जिलाध्यक्ष अजय भारती के अनुसार इनमें दस की जीत हुई है। इनके अलावा आठ-दस पार्टी की विचारधारा से गहरे जुड़े लोग जीते हैं। हालांकि और भी कई सीटों पर पार्टी उम्मीदवारों ने कड़ी टक्कर दी लेकिन बेईमानी कर उन्हें हरा दिया गया। रही बात चेयरमैन के चुनाव में पार्टी की भूमिका की तो इसका फैसला हाईकमान करेगा।

    इधर कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील कुमार ने बताया कि उनकी पार्टी 63 सीटों पर उम्मीदवार दी थी। इनमें दो भांवरकोल चतुर्थ पर सीमा राय तथा जखनियां तृतीय सीट पर लीला देवी सफल हुईं जबकि जमानियां पंचम सीट पर पार्टी उम्मीदवार की जीत की घोषणा के बाद भी प्रमाण पत्र किसी और को दे दिया गया। चेयरमैन के चुनाव में किसी समान विचारधारा वाली उम्मीदवार को ही समर्थन दिया जाएगा।

    मालूम हो कि जिला पंचायत चेयरमैन की कुर्सी सामान्य महिला के लिए आरक्षित है।

    यह भी पढ़ें—पूर्व सांसद राधेमोहन के बेटे की कैसी डिमांड

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

    Previous articleसैदपुर प्रथमः पूर्व सांसद के बेटे ने की रिकाउंटिंग की मांग, आरओ को दिया ज्ञापन
    Next articleमनिहारी पंचम: डॉ. विजय की रणनीति काम आई, पत्नी वंदना ने जीत दर्ज कराई