विधायक अलका राय की बहू की दूसरी जीत, पूर्व प्रमुख रतना को दी मात

    41
    0

    भांवरकोल (गाजीपुर)। विधायक अलका राय की बहू श्रद्धा राय (पत्नी आनंद राय मुन्ना) ने बीडीसी की कनुवान प्रथम सीट भी अपने नाम कर ली। उन्होंने सीधे मुकाबले में पूर्व प्रमुख रतना राय को मात दी। श्रद्धा राय को कुल 550 वोट मिले जबकि रतना राय 375 वोट पर ही संतोष करना पड़ा।

    दरअसल विधायक परिवार की निगाह भांवरकोल ब्लाक प्रमुख पद पर है। लिहाजा बीडीसी की कनुवान सीट विधायक अलका राय के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गई थी। उनके भतीजे आनंद राय मुन्ना की शुरू में कोशिश यही थी कि पत्नी श्रद्धा इस सीट से निर्विरोध निर्वाचित होकर ब्लाक प्रमुख चुनाव का शानदार तरीके से आगाज करें लेकिन नामांकन के अंतिम दिन पूर्व प्रमुख रतना राय पूर्व प्रमुख शारदानंद राय लुटूर संग नामजदगी करने पहुंच गई थीं। तब उनका नामांकन पत्र फाड़ दिया गया था। उनके संग मारपीट भी हुई थी लेकिन मौके पर पहुंचे प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में रतना राय बीडीसी की कनुवान प्रथम तथा लुटूर राय ने द्वितीय सीट से नामांकन किया था। घटना के मामले में उनकी तहरीर पर विधायक के भतीजे आनंद राय मुन्ना तथा उनके अज्ञात साथियों के विरुद्ध एफआईआर भी दर्ज हुई थी।

    हालांकि श्रद्धा राय ने बीडीसी की ढुढ़िया सीट से भी पर्चा दाखिल किया था और वहां निर्विरोध निर्वाचित भी हो गई थीं और अब जबकि कनुवान की सीट पर भी जीत दर्ज कराकर वह प्रमुख की कुर्सी की लड़ाई का शानदार आगाज करने में कामयाब हो गई हैं। उधर पूर्व प्रमुख शारदानंद राय लुटूर भी बीडीसी की कनुवान की द्वितीय सीट से जीत दर्ज करा कराने में सफल हो गए हैं। वह अपने खाते में कुल 422 वोट बटोरे। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी पिंटू राजभर 345 कुल 345 वोट पाए।

    उधर भाजपा के वरिष्ठ नेता विजय शंकर राय की वधू शोभा राय भी अपने पैतृक गांव अमरूपुर की बीडीसी सीट से एकतरफा मुकाबले में जीत दर्ज कराई है। उनकी झोली में पूरे 900 वोट गिरे थे। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी गदाधर पांडेय अपने लिए मात्र 266 वोट बटोर पाए।

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

    Previous articleनिजी खर्च पर ऑक्सीजन प्लांट लगवाने की सांसद अतुल राय की पेशकश, डीएम मऊ को भेजी चिट्ठी
    Next articleअंसारी बंधुओं का भांवरकोल में हाथ खाली