…और सेनेटाइजर की हो रही थी मुनाफाखोरी

    38
    0

    गाजीपुर। प्रशासन रेमडीसिविर इंजेक्शन तथा ऑक्सीजन की पर्याप्त और सहज उपलब्धता को लेकर भी अलर्ट है। इसके लिए बकायदा एक टीम बना कर शहर के मेडिकल स्टोर्स तथा ऑक्सीजन गैस एजेंसी के गोदामों पर मंगलवार की दोपहर छापेमारी की गई। मेडिकल स्टोर्स पर इनके स्टॉक तथा प्राइज की जांच की गई। साथ ही मेडिकल स्टोर्स पर कोविड-19 की गाइड लाइन को भी परखा गया। कुछ जगह इसकी अनदेखी पर चालान भी काटा गया। पुलिस कप्तान डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि शहर के खोवा मंडी स्थित ऑक्सीजन गैस एजेंसी संचालक को हिदायत दी गई कि उच्चाधिकारियों के बगैर इजाजत व्यवसायिक आपूर्ति न की जाए।

    मेडिकल स्टोर्स पर कहीं भी रेमडीसिविर इंजेक्शन नहीं मिला। टीम ने कुछ जगह सेनटाइजर की मुनाफाखोरी भी पकड़ी। सेनेटाइजर की 100 एमएल की एक फाइल की कीमत 60 रुपये तय है जबकि वहां मिली उस फाइल पर एमआरपी 250 रुपये तक अंकित थी। यही नहीं बल्कि कई जगह मेडिकल स्टोर संचालक व सेल्समैन बगैर मास्क थे। लिहाजा इस सभी के विरुद्ध कार्रवाई की गई।

    टीम की अगुवाई एसडीएम सदर अनिरुद्ध सिंह कर रहे थे। टीम में एसीएमओ प्रगति कुमार के अलावा सीओ सिटी ओजस्वी चावला शामिल थे। बाद में टीम शहर से सटे महाराजगंज बाजार में भी पहुंची थी और फुटपाथ के दुकानदारों को अनिवार्य रूप से मास्क के इस्तेमाल की चेतावनी दी।

    यह भी पढ़ें—सिंह हॉस्पिटल भी अधिग्रहित

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

    Previous articleकरोना: शहर के भी दो निजी अस्पताल अधिग्रहित
    Next articleविधायक अलका राय की बहू निर्विरोध बीडीसी सदस्य निर्वाचित