फर्मासिस्टों ने दी सीएमओ दफ्तर में तालाबंदी की चेतावनी, समर्थन में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद भी उतरा

    36
    0

    गाजीपुर। सीएमओ के विरुद्ध फर्मासिस्टों की शुरू हुई लड़ाई में मंगलवार को और धार आ गई। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उनके समर्थन में खुल कर उतर गया। इसी क्रम में डिप्लोमा फर्मासिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष ओंकार नाथ पांडेय ने चेतावनी दी कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो 24 अप्रैल को सीएमओ ऑफिस में तालाबंदी होगी। साथ ही जिले भर के फर्मासिस्ट बेमियादी हड़ताल पर चले जाएंगे।

    सीएमओ ऑफिस के समक्ष डिप्लोमा फर्मासिस्ट एसोसिएशन के धरना स्थल पर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिलाध्यक्ष दुर्गेश कुमार श्रीवास्तव अपनी पूरी टीम तथा सहयोगी संगठनों के नेताओं संग पहुंचे और एसोसिएशन की मांग को जायज बताते हुए उन्होंने अपना पूर्ण समर्थन देने की घोषणा की। वह कहे कि अगर सीएमओ आंदोलनरत फर्मासिस्टों से वार्ता कर उनकी मांग पूरी नहीं करेंगे तो यह लड़ाई परिषद के बैनर तले पूरे जिले में पसर जाएगी। राज्य सरकार के सभी विभागों के दफ्तरों में ताले चढ़ जाएंगे।

    फर्मासिस्टों को समर्थन देने पहुंचे शिक्षणेत्तर कर्मचारी परिषद पीजी कॉलेज के अध्यक्ष विवेक सिंह शम्मी ने कहा कि सीएमओ समय रहते चेत जाएं। विभागीय कर्मियों का शोषण बंद करें। वरना गंभीर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह ने चेतावनी दी कि जरूरत पड़ी तो बसों के चक्के जाम कर रोडवेज कर्मी भी इस लड़ाई में कूद पड़ेंगे।

    इस मौके पर अरविंद नाथ राय, बालेंद्र त्रिपाठी, देवेंद्र मौर्य, अभय सिंह, विनोद पांडेय, विजय श्रीवास्तव, जितेंद्र सिंह, इमरान संतोष कुमार, रविंद्र सचान, अनिल कुशवाहा, बलिराम, अजय सिंह, वीके सिंह, अंगद, कबीर अहमद, शिवप्रसाद, रमेश चतुर्वेदी, सिंधु राज, शंकर नारायण, राजू श्रीवास्तव, प्रदीप पांडेय, विपिन सिंह, बृजेश सिंह, धर्मेंद्र पांडेय आदि ने भी विचार व्यक्त किए। संचालन रमेशचंद्र ने किया।

    …और सीएमओ बोले

    विभागीय स्टोर कीपर के पद पर गैर कॉडर की तैनाती को लेकर फर्मासिस्टों के इस आंदोलन की चर्चा पर सीएमओ जीसी मौर्य ने साफ कहा कि फर्मासिस्टों का यह आंदोलन बिल्कुल गैरवाज़िब है। स्टोर कीपर की नियुक्ति का फैसला उनका नहीं बल्कि ऊपर के आदेश पर है। सीएमओ अपनी बात में यह भी जोड़े कि आंदोलन की अगुवाई कर रहा शख्स खुद पाक साफ नहीं है। बल्कि वह खुद कई सालों से एक ही पटल पर सेवारत है।

    Previous articleकैबिनेट मंत्री अनिल राजभर का एक दिवसीय दौरा
    Next articleअवैध निर्माण ढहवाने गए पुलिस सब इंस्पेक्टर पर हमला, सात नामजद