मनोज सिन्हा की कश्मीरियों के दिल जीतने की कवायद, गणतंत्र दिवस पर नए लुक में दिखे एलजी

    34
    0

    गाजीपुर। मनोज सिन्हा को उनके गृह जिला गाजीपुर सहित पूर्वांचल के लोग धोती-कुर्ता अथवा पायजमा-कुर्ता में ही देखे होंगे लेकिन जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल के रूप में पहली बार गणतंत्र दिवस पर श्रीनगर में तिरंगा फहराने का उन्हें मौका मिला और उस मौके पर उनका लुक एकदम हट कर था। बल्कि कश्मीरी नेताओं वाला ड्रेस कोड। सिर पर वुलेन टोपी। वुलेन शूट और गले में मफलर।

    श्री सिन्हा के उस लुक को कश्मीरियों के दिल जीतने की मोदी सरकार की कवायद से जोड़ा जा रहा है। जाहिर है कि मोदी-शाह के अति विश्वासपात्र माने जाने वाले श्री सिन्हा के सामने जम्मू-कश्मीर को भारत की मुख्यधारा में लाने की बड़ी चुनौती रही है और उसे वह अपनी खास कार्यशैली से निपटाने की कोशिश में लगे हैं।

    इसका अंदाजा जम्मू-कश्मीर शासन के मुखिया की हैसियत से लिए गए उनके नीतिगत फैसलों के साथ ही सांस्कृतिक, शैक्षणिक साझीदारी से भी लगाया जा सकता है। उनकी पहल पर में जम्मू-कश्मीर सरकार के कला, संस्कृति एवं भाषा अकादमी के तत्वावधान में 28 जनवरी को जम्मू यूनिवर्सिटी के जनरल जोरावर सिंह प्रेक्षा गृह में शाम चार बजे अखिल भारतीय कवि सम्मेलन भी आयोजित है। उसमें देश के जाने माने कवियों के साथ ही गाजीपुर के सुविख्यात कवि हरिनारायण हरीश भी आमंत्रित हैं। इसी बीच श्री सिन्हा ने बीएचयू के ज्यूलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ.बेचन लाल को कलस्टर यूनिवर्सिटी जम्मू-कश्मीर का वाइसचांसलर बनाया है।

    यह भी पढ़ें–मंत्रीजी कार्यकर्ताओं को दिए पूरा भाव

    आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

     

    Previous articleकार्यकर्ताओं से पूरे भाव में मिले डॉ.महेंद्र पांडेय पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का रखे पूरा ख्याल
    Next articleसपाइयों की ट्रैक्टर रैली, कई जगह पुलिस से धक्का-मुक्की, हिरासत में लिए गए विधायक सहित 60 नेता