भाजपा: एमएलसी टिकट बंटवारे से नाखुश प्रभुनाथ चौहान का सभी पदों से इस्तीफा

    35
    0

    गाजीपुर। भाजपा के वरिष्ट नेता प्रभुनाथ चौहान एमएलसी उम्मीदवारों की पार्टी सूची में अपना नाम शामिल नहीं किए जाने से बेहद खफा हैं और शनिवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को चिट्ठी भेज कर अपने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि चिट्ठी में उन्होंने यह भी कहा है कि वह पार्टी के लिए समान्य कार्यकर्ता के रूप में आजीवन कार्य करते रहेंगे।

    गाजीपुर के दुल्हपुर क्षेत्र स्थित मियनाबड़ा गांव के रहने वाले प्रभुनाथ चौहान शुरू से भाजपा से जुड़े रहे हैं। पार्टी के जिलाध्यक्ष भी रह चुके हैं। 2009 के लोकसभा चुनाव में गाजीपुर सीट से पार्टी के उम्मीदवार भी थे। मौजूदा वक्त में पार्टी के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य के साथ ही चंदौली के सकलडीहां विधानसभा क्षेत्र प्रभारी, पंचायत चुनाव संयोजक गाजीपुर के अलावा वह राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य भी रहे हैं। अपनी चिट्ठी में उन्होंने स्पष्ट कहा है कि इन सभी चार पदों को वह छोड़ रहे है।

    इस सिलसिले में ‘आजकल समाचार’ से बातचीत में श्री चौहान ने एमएलसी चुनाव के लिए शुक्रवार को पार्टी उम्मीदवारों की जारी सूची पर नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि उनके समर्थकों और समाज (चौहान) के लोगों को सिद्दत से इंतजार था कि उन्हें राज्यसभा अथवा विधान परिषद में भेजा जाएगा लेकिन पार्टी की उस जारी सूची ने उन्हें निराश किया है। इस दशा में उनके लिए पार्टी के जिम्मेदार पदों पर रहने का कोई औचित्य नहीं रह गया है। सोशल मीडिया में वायरल हुई अपने इस्तीफे की चिट्ठी की प्रमाणिकता की पुष्टि करते हुए उन्होंने कहा कि उस चिट्ठी पर 18 जनवरी की तारीख की वजह यह है कि वह उसी दिन पार्टी प्रदेश अध्यक्ष से मिल कर इस्तीफे की चिट्ठी के साथ ही उनको जिम्मेदारी वाले पदों के कागजात वगैरह भी सौंपेगें।

    प्रभुनाथ चौहान जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा के अति करीबी माने जाते हैं। अभी कुछ ही दिन पहले वह जम्मू-कश्मीर गए थे और वहां के राजभवन में अतिथि के रूप में ठहरे थे। एक सवाल पर साफ कहे कि अपने इस्तीफे के बाबत उन्होंने मनोज सिन्हा से कोई बात नहीं की है। यह उनका स्वयं के विवेक का निर्णय है। इधर इस संबंध में भाजपा जिलाध्यक्ष भानु प्रताप सिंह से चर्चा की गई तो उन्होंने माना कि श्री चौहान के इस्तीफे की चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है लेकिन उसकी सत्यता  की पुष्टि वही कर सकते हैं और इस वक्त वह लखनऊ में हैं।

    यह भी पढ़ें—स्टेट प्लेन अंधऊ उतरेगा

    Previous articleप्रदेश सरकार के दो मंत्री वाया गाजीपुर बलिया जाएंगे
    Next articleबहुचर्चित पुलिस इंस्पेक्टर पर लटकी तलवार, कार्रवाई के लिए डीजीपी ऑफिस ने शासन से मांगी इजाजत