भाजपा नेता रामहित राम पंचतत्व में विलीन

    41
    0

    गाजीपुर। भाजपा अनुसूचित मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामहित राम (68) गुरुवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। उनकी अंतिम यात्रा पैतृक गांव जयरामपुर से निकली। गाजीपुर श्मशान घाट पर उनका दाह संस्कार हुआ। मुखाग्नि उनके कनिष्ठ पुत्र जयेंद्र देव सुंदरम ने दी। राम हित राम काफी दिनों से बीमारी चल रहे थे। बुधवार की रात साढ़े नौ बजे उन्होंने अपने पैतृक आवास पर अंतिम सांस ली।

    इस अवसर पर भाजपा के जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह, जिला महामंत्री ओमप्रकाश राय, मंडल अध्यक्ष  राजेश चौहान, मन्नू राजभर, कुंवर रमेश सिंह पप्पू ने ससम्मान उनके पार्थिव शरीर पर पार्टी ध्वज अर्पित किया। उनके अलावा विधायक द्वय डॉ. संगीता बलवंत तथा सुनिता सिंह, बिहारी राय, सुनील सिंह, विनोद अग्रवाल आदि ने पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर अपने नेता को अंतिम विदाई दी।

    रामहित राम शिवकुमार शास्त्री इंटर कॉलेज जंगीपुर के सेवा निवृत्त शिक्षक थे। आजीवन भाजपा के लिए समर्पित रहे। कभी पार्टी के जिला संयोजक भी रहे और पार्टी के टिकट पर जखनियां विधानसभा सीट से कई बार चुनाव भी लड़े।

    श्मशान घाट पर पूर्व एमएलसी बाबूलाल बलवंत, रामनरेश कुशवाहा, जितेंद्र नाथ पांडेय, अच्छेलाल गुप्त, राजेश भारद्वाज, ओम प्रकाश राम, नरेंद्र, ओम प्रकाश राय ओंकार मिश्र, अवधेश राजभर, दया शंकर पांडेय, विपिन सिंह, संकठा प्रसाद मिश्र, मुराहू राजभर, हंसराज राजभर, गोपाल राय, धर्मेंद्र कुशवाहा, अवधेश दूबे, मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा, शैलेश राम, लहजू कुशवाहा, ओंकार सिंह, जगदीश सिंह, जय सूर्य भट्ट, सुनील गुप्त, रासबिहारी राय, ललन सिंह, राकेश सिंह, सुरेश बिंद, रामलाल सिंह आदि भाजपा नेता भी मौजूद थे।

    अंतिम यात्रा में `जब तक सूरज चांद रहेगा-तब तक रामहित का नाम रहेगा` का नारा गूंज रहा था। फूल मालाओं से सजे वाहन से पार्थिव शरीर श्मशान घाट लाया गया।

    यह भी पढ़ें–अंसारी बंधुओं पर मस्त का तंज

    Previous articleआंदोलित किसानों के बहाने अंसारी बंधुओं पर तंज कसे सांसद बलिया
    Next article…और निरस्त रहेंगी कई प्रमुख ट्रेनें