पैतृक संपत्ति बंटवारे के विवाद में छोटे भाई की कर दी हत्या, घर से चौथे दिन शव बरामद

    42
    0

    गाजीपुर। पैतृक संपत्ति के बंटवारे के विवाद में सहोदर छोटे भाई का कत्ल कर अधेड़ फरार हो गया। शव चौथे दिन शुक्रवार की दोपहर घर से बरामद हुआ। रिश्ते को तार-तरा करने वाली यह घटना थाना नोनहरा के बवांड़े गांव की है।

    यह भी पढ़ें—सांसद अतुल राय को कोर्ट से राहत

    इस घटना की जानकारी ग्रामीणों को तब मिली जब उस घर से तेज दुर्गंध आने लगी। घर के मुख्य दरवाजे पर ताला चढ़ा था। उसे तोड़ कर जब लोग अंदर पहुंचे तो वहां का मंजर देख सन्न रह गए। फर्श पर छोटे भाई गुप्तेश्वर सिंह मुन्ना (45) का शव पड़ा था। उसे चादर से ढंका गया था। आसपास काफी मात्रा में खून पसरा था। करीब 50 फीसद शव सड़-गल चुका था।

    ग्रामीणों के अनुसार बीते 12 दिसंबर को दोनों भाई घर लौटे थे। उसके बाद पैतक संपत्ति को लेकर उनमें झगड़ा हुआ था। माना जा रहा है कि उसी दौरान बड़े भाई मोहन सिंह ने मुन्ना को धारदार हथियार के प्रहार से मौत की नींद सुला दिया। उसके बाद मुख्य दरवाजे पर ताला जड़ कर फरार हो गया। मुन्ना गाजीपुर-वाराणसी मार्ग पर चलने वाली एक निजी बस का चालक था जबकि उनका हत्यारा भाई मोहन मुहम्मदाबाद इलाके में कहीं वेल्डिंग का काम करता है और उसका परिवार भी साथ में रहता है। मुन्ना की पत्नी का निधन हो चुका है। उसकी चार विवाहित बेटियां हैं। वह अपनी ससुराल में रहती हैं। मुन्ना की हत्या की सूचना मिलने के बाद उनकी बड़ी बेटियां कंचन व निधि पहुंची और पिता की हत्या के मामले में बड़े पिता के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराईं।

    गांव वालों ने बताया कि तीस साल पहले बड़ा भाई मोहन अपनी पत्नी को छोड़ कर मुन्ना की पत्नी को लेकर फरार हो गया था। बाद में रिश्तेदारों, परिचितों के कहने पर मुन्ना बड़े भाई की पत्नी से शादी कर लिया था। उसके बाद से दोनों में कोई संबंध नहीं रह गया था। मोहन की भी तीन बेटियां व एक बेटा है। उन सभी की भी शादी हो चुकी है।

    हत्यारे मोहन को पुलिस सरगर्मी से तलाश रही है। उसके संभावित ठिकानों पर भी दबिश दी गई है लेकिन उसका सुराग नहीं मिला है।

    Previous articleसांसद अतुल राय को कोर्ट से राहत, विक्टिम के मित्र की अर्जी खारिज
    Next articleकार्यकर्ताओं का सम्मान सर्वोपरि, हटेंगे एसएचओ कासिमाबाद: सकलदीप राजभर