एमएलसी चुनाव: पहली लड़ाई में ही सपा ने भाजपा को दी मात

    41
    0

    गाजीपुर। यह इत्तेफाक कि शिक्षक एमएलसी के चुनाव में सपा और भाजपा पहली बार औपचारिक तौर पर मैदान में उतरीं और हकीकत यह कि सपा मैदान मारने में कामयाब रही। यह कामयाबी  सपाइयों को उत्साहित कर दी है।

    सपा के जिलाध्यक्ष रामधारी यादव ने इस जीत को पार्टी कार्यकर्ताओं की मेहनत और एकजुटता का परिणाम बताया है। इसके लिए उन्होंने कार्यकर्ताओं के प्रति आभार जताते हुए कहा कि यह साबित हो गया कि ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से कोई भी चुनाव हुआ तो भाजपा को मुंहकी खानी पड़ेगी।

    यह भी पढ़ें—चेतनारायण हुए ऐसे चित!

    सपा विधायक डॉ. बिरेंद्र यादव ने भी पार्टी की जीत पर कार्यकर्ताओं को साधुवाद दिया है। इनके अलावा विधायक सुभाष पासी, पूर्व सांसद द्वय राधेमोहन सिंह व जगदीश कुशवाहा, पूर्व मेत्री ओमप्रकाश सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश कुशवाहा, मीडिया प्रभारी अरुण कुमार श्रीवास्तव आदि ने भी निर्वाचित शिक्षक एमएलसी लालबिहारी यादव सहित पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को बधाई और कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया है।

    क्षेत्र बदलते रहे लालबिहारी पर जीत वाराणसी में मिली

    गाजीपुर। मूलत: आजमगढ़ के रहने वाले  नव निर्वाचित शिक्षक एमएलसी लालबिहारी यादव कोई नए चेहरे नहीं हैं। यह उनका चौथा चुनाव है। पहली बार वह गोरखपुर-फैजाबाद स्नातक खंड से चुनाव लड़े थे पर हार गए थे। उसके बाद इलाहाबाद-झांसी शिक्षक खंड से किस्मत आजमाए। वहां भी किस्मत साथ नहीं दी। फिर वह गोरखपुर-फैजाबाद शिक्षक खंड से मैदान में उतरे मगर पिछड़ गए और अब जबकि वाराणसी शिक्षक खंड से सपा के टिकट पर मैदान में आए तो बाजी अपने नाम करने में सफल रहे।

    …और शर्मा गुट ने की वापसी

    गाजीपुर। एमएलसी चुनाव में वाराणसी सीट पर माध्यमिक शिक्षक संघ (शर्मा गुट) की भले लगातार यह तीसरी हार है लेकिन चुनाव परिणाम ने शर्मा गुट के लिए आगे की संभावनाएं बना दी है। पिछले दो चुनावों से चेतनारायण सिंह शर्मा गुट को काफी पीछे ढकेलते रहे लेकिन इस बार वह खुद पीछे छूट गए और शर्मा गुट के उम्मीदवार पूर्व एमएलसी प्रमोद मिश्र सपा के लालबिहारी यादव को कड़ी टक्कर देने में सफल रहे।

    Previous articleबगावत, लामबंदी और भाजपा मोह के कॉकटेल में चेतनारायण ‘अचेत’!
    Next articleगाजीपुर सिटी-कोलकाता एक्सप्रेस 13 से फिर चलेगी