कोविड-19: दिल्ली वालों पर खास नजर

    42
    0

    गाजीपुर। दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर को लेकर गाजीपुर का प्रशासन भी सजग हो गया है।

    प्रशासन सशंकित है कि दिल्ली से आने वाले लोग कोरोना वायरस साथ ला सकते हैं और गाजीपुरियों के ‘सुख चैन’ में खलल डाल सकते हैं। इसके लिए प्रशासन की निगाह खासकर गांवों पर है। गांवों में तैनात आशा कार्यकत्रियों को निर्देशित किया गया है कि कोरोना प्रभावी दिल्ली सहित गुजरात, महाराष्ट्र से आने वाले प्रवासियों की सूची बनाई जाए और संदिग्धता की स्थिति में संबंधित को इलाकाई स्वास्थ्य केंद्रों पर ले जाकर उनकी जांच कराई जाए।

    यह भी पढ़ें—मुख्तार के गणेशु: बच के रहना रे बाबा!

    एसीएमओ उमेश कुमार ने बताया कि दीपावली और छठ पर्व पर काफी संख्या में लोग अपने गांव लौटे थे। उनपर आशा कार्यकत्रियों के जरिये नजर रखी गई। उनमें कई संदिग्धों की जांच भी कराई गई। गनीमत यही रही कि उनमें कोई कोई कोनोना पॉजिटिव नहीं निकला।

    मालूम हो कि गाजीपुर में कोरोना की पहली केस पहली अप्रैल को मिली थी जबकि जांच के लिए सैंपल कलेक्शन का काम पांच अप्रैल से शुरू हुआ था। अब तक एक लाख 80 हजार 830 लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं। उनमें मात्र चार हजार 715 लोग ही संक्रमित पाए गए। स्वास्थ्य विभाग के आकड़ों पर गौर किया जाए तो हालात काफी सुकून वाले हैं। एक सप्ताह के अंदर मात्र 64 लोग पॉजिटिव मिले है जबकि कुल 97 केस एक्टिव हैं। अब तक 71 लोगों की मौत भी हो चुकी है।

    Previous articleमुख्तार के करीबी बहुचर्चित प्रॉपर्टी डीलर गणेशदत्त मिश्र को मात्र पांच दिन की मोहलत
    Next articleसांसद अतुल राय प्रकरण: कथित पीड़िता जालसाज! एफआईआर का आदेश