कुख्यात सन्नी सिंह नाटकीय ढंग से पुलिस के हाथ लगा, अज्ञात स्थान पर पूछताछ जारी

    36
    0

    गाजीपुर। सैदपुर पुलिस का मोस्ट वांटेड कर्मवीर उर्फ सन्नी सिंह बुधवार की सुबह नाटकीय ढंग से गिरफ्त में आ गया। हालांकि पुलिस इस बात से साफ इन्कार कर रही है लेकिन खबर है कि किसी अज्ञात स्थान पर ले जाकर उससे गहन पूछताछ की जा रही है।

    सन्नी सिंह अचानक सरजू पांडेय पार्क पहुंचा। उसके हाथ में एक पेपर था। उस पर पेन से मोटे अच्छरों में लिखा था-मैं सन्नी सिंह उर्फ कर्मवीर सिंह देवचंदपुर सैदपुर गाजीपुर।

    उसी बीच पुलिस उसे अपनी कस्टडी में ले ली और अज्ञात स्थान के लिए रवाना हो गई। सन्नी चेहरे पर मास्क लगाए लोवर-टीशर्ट और हवाई चप्पल पहने था। उसके कुछ ही देर बाद सन्नी सिंह के सरजू पांडेय पार्क के पास पहुंचने की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी। वीडियो में उसके हाथ का वह पेपर भी फोकस में है जिस पर उसका नाम-पता अंकित था।

    यह भी पढ़ें–फर्जीवाड़ा रेल टिकट का, निपट गए वाणिज्य अधीक्षक

    वह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पुष्टि के लिए मीडिया कर्मियों के फोन पुलिस के छोटे से बड़े अधिकारियों तक जाने लगे लेकिन किसी ने इसकी पुष्टि नहीं की।

    इस पूरे घटनाक्रम से यह साफ है कि सन्नी सिंह को पुलिस एन्काउंटर का डर सताने लगा था और पुलिस से बचने के लिए ही उसके रायदिहंदों ने इस तरह पुलिस के सामने ‘सरेंडर’ करने की योजना बनवाई। हालांकि यह भनक पहले ही पुलिस को मिल गई थी कि उसकी सख्ती से सन्नी सिंह कोर्ट में सरेंडर करने के फेर में है। शायद यही वजह रही कि मंगलवार से ही पुलिस अलर्ट थी। कोर्ट जाने वाले रास्तों पर पैनी नजर रखी जा रही थी।

    मालूम हो कि 14 अक्टूबर की रात सन्नी सिंह अपने गैंग के साथ अपने ही गांव देवचंदपुर के पेट्रोल पंप पर पहुंचा था। गैंग ने अपनी दोनों गाड़ियों में तेल भरवाया था। उसके बाद हुए नाहक विवाद में सन्नी और उसके शॉर्प शूटर आनंद उर्फ ढोलक सिंह ने गोली मारकर मौके पर मौजूद गांव के ही त्रिभुवन सिंह की हत्या और उनके सगे चचेरे भाई शिवमूरत को जख्मी कर दिया था। उसके बाद गैंग जाते वक्त पंप पर रखी लाइसेंसी राइफल, दो बंदूक, कैश बॉक्स की नकदी और पंप मालिक के भाई की सोने की चैन लूट लिए थे। इस मामले में पंप मालिक के भाई अजय पांडेय ने सन्नी सिंह तथा ढोलक सिंह को नामजद और दस अज्ञात के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई। फिर तो पुलिस सन्नी और उसके गैंग के पीछे हाथ धोकर पड़ गई। सन्नी और ढोलक के सिर पर 50 हजार रुपये का ईनाम रख दिया। देवचंदपुर में सन्नी के अवैध निर्माण को ढहा दिया गया। घटनास्थल के सीसीटीवी से अज्ञातों में पहचाने गए लालबहादुर उर्फ दीपक सिंह निवासी नारी पचदेवरा थाना करंडा तथा अमन उर्फ सूरज पांडेय देवापार झलरिया सादात को मंगलवार की सुबह औड़िहार जंक्शन के पास से गिरफ्तार कर लिया गया।

    Previous articleअपने अधिकारी के निलंबन पर बिफरे रेल कर्मी, सिटी स्टेशन की घंटों बंद रही टिकट खिड़की
    Next articleसुकून की खबर, गाजीपुर में दम तोड़ रहा कोरोना!