रुपये लूट भाग रहे बदमाशों ने बीच राह रुके युवक की हत्या कर लूट ली बाइक

    29
    0

    बाराचवर (गाजीपुर)। बेखौफ बदमाशों ने साढ़े तीन लाख की नकदी लूट ली और भागते वक्त कुछ ही दूर राह में खड़े एक अन्य युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। उसके बाद उसकी बाइक लेकर चलते बने। मौके पर बदमाश अपनी बाइक भी छोड़ गए। यह घटना थाना बरेसर के परसा-तिराहीपुर मार्ग पर गुरुवार की शाम करीब साढ़े चार बजे हुई। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने मौके पर रास्ता जाम कर दिए। मौकेे पर पहुंचे डीएम, एसपी के आश्वासन पर साढ़े नौ बजे जाम खत्म हुआ। एहतियातन कई थानों की पुलिस फोर्स भी मौके पर पहुंची थी।

    यह भी पढ़ें–थानेदार के बिगड़े बोल 

    मुहम्मदाबाद कोतवाली के परानपुर गांव के यूबीआई के बैंक मित्र दयाशंकर यादव के भाई रामसंत यादव बैंक की अमवट शाखा से रुपये निकाल कर घर के लिए चले। साथ में उनका भतीजा अंकित रुपये का बैग लेकर बाइक पर पीछे बैठा था। कुछ ही दूर आगे बढ़ने पर बाइक सवार दो बदमाश ओवरटेक कर रामसंत को जबरिया रोके और उनकी कनपटी पर तमंचा सटा कर भतीजे से रुपये का बैग छीन लिए। फिर वह भागे और कुछ ही दूर आगे परसा-तिराहीपुर मार्ग पर काशी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल गेट के करीब पहुंचे थे कि स्पीडब्रेकर पर हड़बड़ी में उनकी बाइक पलट कर बंद हो गई। उसी बीच सामने उनकी नजर अपनी खड़ी बाइक पर बैठे युवक सूर्यभान चौहान (30) पर पड़ी। वह उसके पास पहुंचे और पीछे से गोली मार कर उसकी बाइक लेकर परसा की ओर चलते बने। वह अपनी बाइक वहीं छोड़ दिए। अचानक हुई इस घटना के बाद आसपास के लोग मौके पर एकत्र हो गए और गुस्से में सूर्यभान के शव के साथ जाम लगा दिए। वह हत्यारे बदमाशों की शीघ्र गिरफ्तारी और मृतक के आश्रितों को आर्थिक मदद की मांग कर रहे थे। बाद में डीएम एमपी सिंह तथा एसपी ओमप्रकाश सिंह मौके पर पहुंचेे और उन्हें आश्वस्त किए। उसके बाद ग्रामीण जाम खत्म करने के साथ ही सूर्यभान का शव पुलिस को सौंप दिए। लूट के शिकार रामसंत यादव के मुताबिक बदमाशों में बाइक चलाने वाला हेलमेट और दूसरा मास्क लगाए था। लुटेरों के हाथ लगे उनके बैग में कुल 3.40 लाख नकद और लैपटॉप वगैरह थे।

    बदमाशों की बाइक का नबंर प्रयागराज का

    युवक सूर्यभान चौहान की हत्या कर उसके बाद मौके पर बदमाशों की छोड़ी बाइक पर लगा नंबर यूपी 70-सीएच 8557 प्रयागराज का है। एम परिवहन ऐप के जरिये यह पता चला कि यह नंबर किसी रामूराज गौतम को अपाची बाइक आवंटित है। तब यह भी संभव हो कि वह बाइक लूटी गई हो या फिर बदमाशों ने वारादात उस नंबर का इस्तेमाल किया हो।

    …तब सूर्यभान को मौत ने रोका!

    यह तो तय है कि इस पूरे घटनाक्रम में युवक सूर्यभान चौहान की जान नाहक गई। कहा जा रहा है कि मौत ने उसे रोक लिया। क्षेत्र के सत्यनगर उर्फ चौथी बांध गांव निवासी सूर्यभान अपनी बहन भानमती को लेकर दूसरी बहन सगुन की ससुराल मधुकीपुर (बलिया) गया था। वहां से वापस आकर बहन भानमती को उसकी ससुराल बांकी खुर्द छोड़कर अपने घर के लिए चला। साथ में भांजा केशरी भी था। वह काशी यादव इंटरनेशनल स्कूल गेट पर रुक कर भांजे को समोसा के लिए भेजा। तभी बदमाश आ गए और उसकी हत्या कर दिए और अपनी बाइक छोड़ उसकी बाइक लेकर चलते बने।

    रामसंत के बड़े भाई दयाशंकर संग भी हुई थी लूट

    यह भी इत्तेफाक ही कहा जाएगा कि रामसंत यादव के बड़े भाई बैंक मित्र दयाशंकर यादव को भी लूटा गया था। बल्कि उन्हें गोली भी मारी गई थी। लूट की वह घटना पिछले साल 19 मार्च को हुई थी। गोली के जख्म आज भी उन्हें परेशान करता है और उसी के इलाज के सिलसिले में वह दिल्ली गए हुए हैं।

    Previous articleएसओ बिरनो के बिगड़े बोल, उल्टे फरियादी को ही फोन पर हड़काया
    Next articleबेकाबू ट्रक ने गंगा स्नानार्थी महिलाओं को रौंदा, तीन की मौत