पंचायत चुनाव में बिरादरी के आपसी टकराव को रोकने की कोशिश करेगी कुशवाहा महासभा

    36
    0

    गाजीपुर। मौर्यवशियों का प्रभावी प्रतिनिधित्व करने वाली कुशवाहा महासभा की नजर त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव पर है। उसकी पूरी कोशिश होगी कि चुनाव मैदान में बिरादरी में आपसी टकराव की नौबत न आए और ज्यादा से ज्यादा बिरादरी के प्रतिनिधि चुने जाएं।

    कुशवाहा महासभा की कासिमाबाद तहसील इकाई की गौतम बुद्ध पब्लिक स्कूल सोनबरसा में रविवार को हुई बैठक में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का मुद्दा प्रमुखता से उठा। कहा गया कि जरूरी है कि लोकतंत्र की सबसे निचली इकाई पंचायतों में समाज की मजबूत हिस्सेदारी सुनिश्चित की जाए और यह तभी संभव होगा जब समाज एकजुट रहेगा। पंचायत चुनाव में आपसी टकराव नहीं होगा।

    बैठक में मौजूद पूर्व सांसद जगदीश सिंह कुशवाहा ने समाज के एकीकरण पर बल देते हुए कहा कि हमें भगवान बुद्ध के उस विचार को आत्मसात करने की जरूरत है जिसमें उन्होंने ज्ञान, धम्म तथा संघ अर्थात संगठन की बात कही थी। किसी भी समाज का विकास तभी हो सकता है जब उसके पास संगठन की ताकत होगी। उन्होंने कहा कि हम कौन थे। क्या हो गए तथा अब क्या होगा। इस पर विचार व चिंतन करने की जरूरत है। संगठन से संघर्ष तथा संघर्ष से बड़ी से बड़ी उपलब्धि प्राप्त की जा सकतीी है।

    यह भी पढ़ें–सांसद के बोलः सच कि झूठ

    बैठक के मुख्य अतिथि पूर्व विधायक उत्तर प्रदेश कोऑपरेटिव यूनियन के चेयरमैन उमाशंकर कुशवाहा थे। उन्होंने कहा कि कुशवाहा समाज का इतिहास गौरवशाली रहा है। समाज अपने परिश्रम, ईमानदारी व त्याग से बड़े से बड़ा मुकाम हासिल किया है, परंतु आज समाज के सामने पहचान का संकट है और इसे एकजुट होकर ही दूर किया जा सकता है।

    वरिष्ठ नेता जनक कुशवाहा ने कहा कि समाज को मुख्यधारा में शामिल होने के लिए राजनीतिक रूप से शक्तिशाली बनना होगा।

    समाजवादी पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष राजेश कुशवाहा ने कहा कि जिस सामाजिक क्रांति का बीज 19वीं सदी में महात्मा फुले ने बोया था और जिनको डॉक्टर आंबेडकर भी अपना आदर्श मानते थे। उनके विचारों को आगे बढ़ाने की जरूरत है। साथ ही आजीवन दलित पिछड़ों के हक व अधिकार के लिए उनको संघर्ष की राह दिखाने वाले क्रांतिकारी नेता शहीद जगदेव प्रसाद के उस विचार को कि पहली पीढ़ी मारी जाएगी, दूसरी जेल जाएगी तथा तीसरी राज करेगी से सबक लेने की जरूरत है। उन्होंने नौजवानों का आह्वान करते हुए कहा कि इतिहास उन्हीं को याद रखता है जो इतिहास बनाने का काम करते हैं। आपका एक कदम और उत्साही सोच समाज में क्रांति पैदा कर सकती है।

    बैठक में पूर्व ब्लाक प्रमुख ओम प्रकाश अकेला, अलगू कुशवाहा, सुधाकर कुशवाहा, राधेश्याम कुशवाहा, अनिरुद्ध कुशवाहा, छोटे लाल मौर्य, दिनेश कुशवाहा, अनिल कुशवाहा, नन्हे कुशवाहा, अनुज कुशवाहा, दीपक, संतोष, रामनिवास, रामजन्म, सुबाष, शिवनारायण, कमलेश, तारा, रणजीत, हरेंद्र कुशवाहा, प्रकाश, सुरेंद्र, अशोक फौजी, विनोद, मोहन, रामेश्वर, आनंद आदि थे। अंत में इस कार्यक्रम के संयोजक प्रभुनाथ कुशवाहा ने आभार व्यक्त किया। संचालन संयुक्त रुप से बद्री कुशवाहा तथा जिला महासचिव जयप्रकाश कुशवाहा ने किया।

    Previous articleसियासत-ए-रेलः बलिया पर गाजीपुर भारी!
    Next articleजिला महिला अस्पताल की बदहाली पर खफा छात्र नेता, सौंपे डीएम को ज्ञापन