अब सपाइयों के विरुद्ध एफआईआर, जिलाध्यक्ष सहित 37 नामजद

    39
    0

    गाजीपुर। जन मुद्दों को लेकर बुधवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे सपाइयों पर शहर कोतवाली में एफआईआर दर्ज हुई है। उसमें पार्टी जिलाध्यक्ष रामधारी यादव सहित 37 नामजद और 50 अज्ञात हैं। शहर कोतवाल विमल मिश्र के मुताबिक कोविड-19 महामारी एक्ट के तहत यह कार्रवाई हुई है।

    नामजद अन्य सपाजनों में बजरंगी यादव, केदारनाथ सिंह यादव, अशोक कुमार बिद, राकेश यादव, डॉ. समीर सिंह, सत्येंद्र यादव सत्या, अमित सिंह, अभिनव सिंह, अरुण श्रीवास्तव, कन्हैया लाल, अवधेश सिंह यादव वगैरह प्रमुख हैं। पुलिस की इस कार्रवाई को लेकर सपा में तीखी प्रतिक्रिया है। पार्टीजनों का कहना है कि यह सरासर ज्यादती है। लोकतांत्रिक तरीके से जनसमस्याओं को लेकर उठती आवाज को दबाने की यह कोशिश है और इसे हरगिज बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

    यह भी पढ़ें–बेचारे! थानेदार सुहवल फिर…

    मालूम हो कि सपा के लोग जनसमस्याओं को लेकर पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत सरजू पांडेय पार्क में एकत्र हुए थे। वह डीएम को नौ सूत्री ज्ञापन सौंपने की तैयारी में थे लेकिन डीएम एमपी सिंह ने ज्ञापन लेने के लिए नायब तहसीलदार को भेजा। तब सपाजन विदक गए और डीएम से मिलने के लिए राइफल क्लब की ओर बढ़े मगर पहले से अलर्ट पुलिस बल ने उन्हें रोक लिया था। तब वह राइफल क्लब गेट के सामने धरने पर बैठ जिंदाबाद-मुर्दाबाद शुरू कर दिए थे। फिर उनमें से दस को डीएम तक जाने की इजाजत दी गई लेकिन डीएम उनसे पत्रक लेने नहीं आए थे। उसके बाद सपाई और उग्र हो गए। आखिर में पुलिस बल ने लठियाना शुरू किया। मौके पर भगदड़ मच गई। उसी बीच जिलाध्यक्ष सहित 37 को गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में उन्हें पुलिस लाइन से निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया था।

    Previous articleभाजपा नेताओं की मौजूदगी में कप्तान ने फोन पर एसएचओ सुहवल को हड़काया
    Next articleफर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्रों के बूते नौकरी हथियाने वाले दो और शिक्षकों की खुली पोल, जवाब तलब