कोरोनाः गाजीपुर में रिकवरी रेट साढ़ेे 88 प्रतिशत

    31
    0

    गाजीपुर। वैसे तो कोरोना वायरस गाजीपुर में भी पसर चुका है मगर गनीमत है कि रिकवरी रेट भी काफी संतोषजनक है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े के मुताबिक यह रेट साढ़े 88 प्रतिशत है। हालांकि छह लोगों की मौत भी हो चुकी है।

    यह भी पढ़ें–सुखद:  कोरोना को पटकनी ऐसे

    गाजीपुर में पहला मामला मार्च के आखिर में सामने आया था।  शहर के महुआबाग इलाके के मस्जिद से तबलीगी जमात से जुड़े तीन लोग पीड़ित मिले थे। उसके बाद प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के साथ ही पीड़ितों की संख्या बढ़ने लगी। गुरुवार की सुबह स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार बीते 24 घंटे में पीड़ितों की कुल संख्या 385 पहुंच गई है। इनमें 324 रिकवर हो चुके हैं जबकि 55 इलाजरत हैं। 47 का इलाज शम्मे गौसिया मेडिकल कालेज सहेड़ी में हो रहा है और पांच बीएचयू में दाखिल हैं। शेष अन्यत्र हैं।

    गाजीपुर में क्षेत्रवार संक्रमितों के हिसाब से देखा जाए तो सबसे ज्यादा संवेदनशील क्षेत्र कासिमाबाद तहसील है। स्वास्थ्य विभाग के कोरोना प्रभारी डॉ. उमेश कुमार ने बताया कि सभी 16 ब्लाकों में टॉप फाइव में कासिमाबाद 67, मुहम्मदाबाद 43, सदर 41, सैदपुर 30 और देवकली ब्लाक में अबतक 25 पीड़ित मिल चुके हैं। उन्होंने बताया कि गाजीपुर के लिए यह भी सुखद है कि कोरोना का फैलाव दूसरे स्टेज में ही सीमटा है। उधर गाजीपुर की बेहतर रिकवरी रेट की चर्चा पर सिंह हॉस्पिटल जमानियां मोड़ के निदेशक डॉ. राजेश सिंह ने कहा कि यह यहां के लोगों के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता अपेक्षाकृत ज्यादा होने का परिणाम है। उनका कहना था कि बावजूद लोगों को अति सावधानी बरतने की जरूरत है। खासकर मास्क को लेकर लापरवाही कतई नहीं होनी चाहिए।

    Previous articleईओ की मौत का कारण भ्रष्टाचार का बेजा दबाव!
    Next articleपुत्र नीरज साथ हैं फिर भी भाजपाइयों के दिल में नहीं समाए चंद्रशेखर