महंगे शौक ने उन्हें बना दिया बाइक लिफ्टर, पहली बार गए जेल, तमंचा सहित आठ बाइक जब्त

    25
    0

    गाजीपुर। ब्रॉंडेड कपड़े-जूते, महंगे फोन समेत स्टाइलिश लाइफ के शौक की पूर्ति के लिए वह बाइक लिफ्टर बन गए और इसकी कीमत उन्हें जेल पहुंच कर चुकानी पड़ी। पुलिस कप्तान डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने शनिवार की दोपहर उन सभी को मीडिया के सामने पेश किया।

    पुलिस कप्तान ने बताया कि यह बाइक लिफ्टर्स गैंग बना कर काम कर रहे थे। इनका कार्यक्षेत्र गाजीपुर के अलावा वाराणसी तक था। गैंग के सरगना समेत सभी चार सदस्य गिरफ्त में आए हैं। इनके कब्जे से चोरी की कुल आठ बाइक, एक मोबाइल फोन और मय कारतूस तमंचा बरामद हुआ है। गैंग पिछले छह माह से सक्रिय था और पहली बार पुलिस के हत्थे चढ़ा है। गैंग का काम करने की अपनी अलग स्टाइल थी। भीड़-भाड़ वाले स्थान खास कर मांगलिक समारोह स्थल पर गैंग के सदस्य पहुंचते और मौका देख डुप्लीकेट चाबी का इस्तेमाल कर बाइक उड़ा देते। फिर चोरी की बाइक बेच अपने शौक पूरे करते। इन सभी की उम्र 20 से 21 साल की है।

    पुलिस कप्तान के अनुसार गिरफ्त में आए गैंग का सरगना अमन यादव उर्फ बंगी खानपुर थाने के ही बारी (सिधौना) का रहने वाला है जबकि लव यादव उर्फ रूद्रा गोपालपुर, संदीप यादव उर्फ सत्या सौना और पिंटू यादव कैथवलिया (माहपुर) कोतवाली सैदपुर का रहने वाला है। पुलिस कप्तान ने बताया कि यह कामयाबी शुक्रवार की रात करीब साढ़े 12 बजे खानपुर थाना क्षेत्र के शादी भादी भादी तिराहे के पास खानपुर पुलिस और स्वाट टीम की साझी कार्रवाई में मिली। टीम की अगुवाई खानपुर थाना प्रभारी शशीचंद चौधरी व स्वाट प्रभारी श्यामजी यादव कर रहे थे।   

    Previous articleअदने दारोगा के लिए भाजपा नेताओं को अपने कार्यकर्ता संग दुर्व्यवहार की भी परवाह नहीं
    Next articleसपा: पदाधिकारियों को जिलाध्यक्ष ने चेताया, गैर जिम्मेदारी पर होंगे पदच्युत