…पर चीन का मोह छोड़ने को तैयार नहीं बीसीसीआई

    28
    0

    गाजीपुर। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) अगले दौर के लिए अपनी स्पॉन्सरशिप पॉलिसी के रिव्यू के लिए तैयार है, लेकिन आईपीएल के मौजूदा टाइटल स्पॉन्सर ‘वीवो’ से करार खत्म करने का कोई इरादा नहीं है। बोर्ड के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल का कहना है कि आईपीएल में चीनी कंपनी से आ रहे पैसे से भारत को ही फायदा हो रहा है, चीन को नहीं। सीमा पर गलवान में दोनों देशों के बीच सैन्य तनाव के बाद चीन विरोधी माहौल गर्म है। चार दशक से ज्यादा समय में पहली बार भारत-चीन सीमा पर हुई हिंसा में कम से कम 20 भारतीय जवान शहीद हो गए।

    Previous articleक्रिकेटः गेंद में नहीं लगाएंगे थूक
    Next articleसुशांत सिंह राजपूत की मौत पर जितने मुंह उतनी बातें

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here